ब्लाक प्रमुख का चुनाव कैसे होता है | योग्यता | कार्य | चुनाव प्रक्रिया | Block Pramukh Election

ब्लाक प्रमुख के चुनाव से सम्बंधित जानकारी

जनसँख्या के आधार पर उत्तर प्रदेश भारत का सबसे बड़ा राज्य है| यदि हम चुनाव की बात करे तो उत्तर प्रदेश में चुनाव को लेकर लोगो में कुछ अलग ही उत्साह देखनें को मिलता है | प्रदेश में पंचायत चुनाव की सरगर्मियां तेज हो गई हैं, क्योंकि प्रदेश में पंचायतों का कार्यकाल 25 दिसंबर 2020 से समाप्त हो रहा है|  पंचायती या स्थानीय चुनाव के अंतर्गत ग्राम प्रधान, जिला पंचायत सदस्य, ब्लाक प्रमुख, बीडीसी आदि का चयन किया जाता है |

हालाँकि कोरोना के कारण इस वर्ष होनें वाले चुनावों को लेकर स्थिति अभी स्पष्ट नहीं हुई है, परन्तु अनुमान के आधार पर यह चुनाव मई या जून 2021 में संपन्न करवायें जा सकते है इसके लिए चुनाव आयोग द्वारा तैयारियां शुरू कर दी गयी है | आज हम आपको ब्लाक प्रमुख के चुनाव से सम्बंधित जानकारी दे रहे है | तो आईये जानते है, कि  ब्लाक प्रमुख का चुनाव कैसे होता है?  

ग्राम प्रधान का चुनाव कैसे होता है

ब्लाक प्रमुख क्या होता है (Block Pramukh Kya Hota Hai)

हमारे देश में अनेक राज्य है, और प्रत्येक राज्यों को जिलों में विभाजित किया गया है और प्रत्येक जिले को ब्लॉक में और ब्लॉक को ग्राम पंचायत में विभाजित किया जाता है | ग्राम ग्राम पंचायत (कई गावों को मिलाकर एक ग्राम पंचायत बनती है) को गाँव में विभाजित किया जाता है, आपको बता दें, कि कम से कम दो -तीन ग्राम पंचायतों को मिलाकर एक विकासखंड का गठन होता है।

गांवों में सड़क, बिजली, नाली, शिक्षा,पेयजल और स्वास्थ्य आदि से सम्बंधित आवश्यक आवश्यकताओं को विकासखंड ही पूरा करता है और इस विकासखंड का अध्यक्ष ब्लाक प्रमुख होता है | एक ब्लाक के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायतों का बजट ब्लाक प्रमुख की अध्यक्षता में ही पास होता है |

ग्राम प्रधान की योग्यता | नामांकन

ब्लाक प्रमुख का चुनाव कैसे होता है (How is the Block Pramukh Election)

पंचायती राज व्यवस्था के अंतर्गत प्रत्येक पांच वर्ष में पंचायती चुनाव संपन्न कराये जाने का प्राविधान है| जिसके अंतर्गत हर पांच साल में क्षेत्र पंचायत सदस्य और ग्राम प्रधान का चुनाव कराया जाता है, इनका चयन गाँव की जनता द्वारा किया जाता है | यह चुनाव जीतनें वाले या निर्वाचित क्षेत्र पंचायत सदस्यों में से किसी एक का मतदान द्वारा ब्लॉक प्रमुख के पद पर चयन किया जाता है| आपको बता दें, कि ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में सिर्फ क्षेत्र पंचायत सदस्य ही मतदान कर सकते है|

नीति आयोग (NITI Aayog) क्या है

ब्लाक प्रमुख बननें हेतु योग्यता (Block Pramukh Yogayata)

राज्य निर्वाचन आयोग, उत्तर प्रदेश द्वारा 2020-21 में आयोजित होने वाले त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों के  लिए योग्यता को लेकर कुछ संशोधन करनें जा रही है| मीडिया से प्राप्त जानकरी के अनुसार नये नियमों के अंतर्गत दो बच्चों की बाध्यता के साथ ही न्यूनतम शैक्षिक योग्यता निर्धारित की जा सकती है|  इसके लिए अभी तक कोई नोटिफिकेशन जारी नहीं हुआ है| उत्तर प्रदेश में 58758 ग्राम पंचायत, 821 क्षेत्र पंचायत और 75 जिला पंचायत हैं। इस बार होनें वाले पंचायती चुनाव 5 या इससे अधिक चरणों में संपन्न कराये जा सकते है|  

जिला पंचायत चुनाव कैसे होता है

ब्लाक प्रमुख के कार्य (Block Prmaukh ke Karya)

  • विकासखंड के अंतर्गत आने वाली ग्राम पचायतों में सड़क, बिजली, नाली, शिक्षा, पेयजल और स्वास्थ्य आदि से सम्बंधित समस्याओं का समाधान कराना |
  • पंचायत समिति की बैठक का आयोजन का समस्याओं को सुनना तथा उनके निराकरण हेतु उचित प्रबंध कराना|
  • सरकार द्वारा जारी की गयी योजनाओं का प्रचार-प्रसार हेतु महत्वपूर्ण कदम उठाना आदि|  
  • ब्लाक प्रमुख पंचायत समिति की वित्तीय और कार्यपालिका प्रशासन पर पूर्ण नियंत्रण रखता है
  • प्राकृतिक आपदाओं से प्रभावित जान माल को तत्काल राहत देने हेतु ब्लाक प्रमुख  एक वर्ष में 25,000 रुपये तक की राशि स्वीकृत कर सकते है, राशि स्वीकृत करने के बाद उसे पंचायत समिति की आगामी बैठक में स्वीकृत राशि का सम्पूर्ण विवरण देना होगा|

जिला पंचायत सदस्य की योग्यता | नामांकन

ब्लाक प्रमुख बननें हेतु आवश्यक दस्तावेज (Documents Required to Become A Block Head)

  • आधार कार्ड
  • वोटर आईडी कार्ड
  • बच्चों की जानकारी हेतु एक शपथ पत्र, जिसमें 2 से अधिक बच्चे ना हो
  • पुलिस चरित्र प्रमाण पत्र
  • मूल निवास प्रमाण पत्र
  • संपत्ति का घोषणा पत्र (चल व अचल संपत्ति का विवरण सहित)  
  • जाति प्रमाण पत्र
  • शौचालय संबंधित प्रमाण पत्र
  • शैक्षिक योग्यता से सम्बंधित प्रमाण पत्र
  • अनुसूचित जाति एवं जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग होने की स्थिति में फॉर्म 4 का होना आवश्यक है। नॉमिनी को डिक्लेरेशन फॉर्म देना होता है, जिसमें यह अंकित होता है, कि वह किसी भी आपराधिक गतिविधि से जुड़ा नहीं है।
  • प्रत्याशी को सिक्योरिटी राशि भरने से सम्बंधित जानकारी निर्वाचन अधिकारी को देना अनिवार्य है|

आचार संहिता क्या है | नियम 

इस बार चुनावों में मिलेग नोटा का विकल्प (Nota Kya Hai)

वर्ष 2020 में होनें वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में मतदाताओं को नोटा (NOTA) का विकल्प मिलेगा| इसका अर्थ यह है, कि यदि कोई भी प्रत्याशी पसंद नहीं है, तो वह नोटा का इस्तेमाल कर सकेंगे|

चुनाव आयोग (Election Commission) क्या है

राजनीतिक दलों द्वारा चुनाव की तैयारी

उत्तर प्रदेश के सभी राजनीतिक दलों नें मतदाताओं को अभी से लुभाना शुरू कर दिया है, सभी पार्टियां जिलों में अपने संगठन को मजबूत करनें का भरसक प्रयास कर रही है। दरअसल सभी दलों के लिए यह पंचायत चुनाव बहुत ही अहम हैं, क्योंकि 2022 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव होंगे। ऐसे में पंचायत चुनाव में जिसका प्रतिनिधित्व अधिक होगा, उस पार्टी की पकड़ उतनी ही मजबूत मानी जाएगी |

एक देश एक चुनाव क्या है