एनएसजी (NSG) कमांडो कैसे बनें | फुल फॉर्म | योग्यता | ट्रेनिंग | सैलरी | पूरी जानकारी

एनएसजी (NSG) कमांडो से संबंधित जानकारी

यदि हम सुरक्षा की बात करे तो किसी भी देश की सुरक्षा में उस देश की सेना की भूमिका सबसे अहम् होती है| एनएसजी कमांडो भारत के सबसे सर्वेश्रेठ कमांडो हैं और यह दुनिया की टॉप 5 स्पेशल फोर्सेज में से एक मानें जाते है। भारत में वीआईपी या महत्वपूर्ण लोगो की सुरक्षा की जिम्मेदारी इन्ही एनएसजी (NSG) कमांडोज पर होती है| एनएसजी कमांडो  देश के सबसे  खतरनाक कमांडो होते हैं, इन्हें ब्लैक कैट कमांडो भी कहा जाता है| यदि देश में अचानक कोई आतंकवादी घटना घटित होती है, तो उसका मुकाबला करने के लिए इन कमांडों को भेजा जाता है| यदि आप भी एक एनएसजी कमांडो बनना चाहते है, तो आईये जानते है एनएसजी (NSG) कमांडो कैसे बनें, फुल फार्म, योग्यता, ट्रेनिंग और सैलरी के बारें में|    

एनएसजी का फुल फॉर्म (NSG Full Form)

हिंदी भाषा में एनएसजी का फुल फॉर्म राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड होता है, और इसे अंग्रेजी में National Security Guard (नेशनल सिक्योरिटी गार्ड) कहते है |

एनएसजी कमांडो क्या है (What is NSG Commando)

एनएसजी कमांडो को ब्लैक कैट कमांडो कहा जाता है | हमारे देश के प्रधानमंत्री से लेकर अन्य महत्वपूर्ण राजनेताओं और सेलेब्रिटी के सुरक्षा के लिए एनएसजी कमांडोज को तैनात किया जाता है| एनएसजी कमांडो प्रत्येक क्षण किसी भी स्थिति से निपटनें के लिए तैयार रहते है|  अपने देश की रक्षा करने के लिए यह अपनी जान की बाजी लगा देते हैं। देश की आतंकवाद से सुरक्षा की जिम्मेदारी, आतंकवादी हमलों से बचाने की जिम्मेदारी भी एक एनएसजी कमांडो की होती है।    

एक एनएसजी कमांडो को  विशेष रूप से हर परिस्थिति से निपटनें के लिए  प्रशिक्षण दिए जाते है, जिसमें आतंकवादियों द्वारा हमला किये जानें पर उन पर नियंत्रण करना, आतंकवादियों द्वारा अगवा किए गए लोगों को मुक्त करानें के साथ ही बम को खोजकर उसे डिसफ्यूज करना आदि शामिल है|  एक एनएसजी कमांडो को आतंकवादियों और बंधक जैसी स्थितियों से निपटने के लिए विशेष रूप से प्रशिक्षित किया जाता है।

एनएसजी कमांडो कैसे बने (How To Become A NSG Commando)

यदि आप एक एनएसजी कमांडो बनना चाहते है तो इसके लिए सबसे पहले आपको भारतीय सेना या केंद्रीय पुलिस बल या राज्य पुलिस बल में  सिपाही बनना होगा, क्योंकि एनएसजी कमांडो के लिए सीधी भर्ती की कोई प्रक्रिया नहीं है| एनएसजी कमांडो के लिये भारतीय सेनाओं और अर्ध सैनिक बलों के सबसे काबिल सैनिकों का चयन किया जाता है, इसके पश्चात उन्हें प्रशिक्षण देकर एनएसजी कमांडो बनाया जाता है। एनएसजी में 53% कमांडो भारतीय सेना से आते हैं, जबकि शेष 47% कमांडो 4 अर्ध सैनिक बलों सीआरपीएफ (CRPF), आईटीबीपी (ITBP), आरएएफ (RAF) और बीएसएफ (BSF) से चुने जाते हैं।  

एनएसजी में दो ग्रुप एसएजी (Special Action Group) और एसआरजी (Special Ranger Group) होते हैं, यह ग्रुप भारतीय सेना की इकाई होती हैं। यदि आप एसएजी ग्रुप में शामिल होना चाहते हैं, तो आपका इंडियन आर्मी में होना अनिवार्य है। यदि आप एसआरजी ग्रुप में जाना चाहते हैं, तो आपका पैरामिलिट्री फोर्स में होना अनिवार्य हैं।

एनएसजी कमांडो बननें हेतु योग्यता (Qualification for NSG Commando)

एनएसजी कमांडो बनने के लिए सबसे पहले आपको भारतीय सेना में सिपाही या ऑफिसर बनना होगा। कमांडो बनने के लिए किसी भी वर्ष के अभ्यर्थी के लिए कोई छुट नहीं दी जाती है। भारतीय सेना में सिपाही अर्थात सोल्जर बनने के लिए आपकी आयु 18 से 23 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

एनएसजी कमांडो बनने के लिए अभ्यर्थी को भारत का नागरिक होना अनिवार्य है| अभ्यर्थी की न्यूनतम हाइट 157 सेंटीमीटर होनी चाहिए। शारीरिक और मानसिक रूप से पूरी तरह स्वस्थ सैनिकों को ही एनएसजी कमांडो के रूप में चुना जाता है| एनएसजी कमांडो बनने के लिए सैनिको को एक विशेष प्रशिक्षण से गुजरना होता है| इस प्रशिक्षण में सफलता प्राप्त करनें वाले सैनिको को NSG कमांडो के रूप में चयनित किया जाता है।

एनएसजी कमांडो के लिए ट्रेनिंग (Training For NSG Commando)

एनएसजी कमांडोज की टेनिंग बहुत ही कठिन होती है। एक एनएसजी कमांडो बनने के लिए ट्रेंनिंग प्रक्रिया के विभिन्न चरणों में सफलता प्राप्त करना होता है। ट्रेनिंग के पहले दौर में जवानों को 26 तरह की मुश्किलों को पार करना होता है| इस ट्रेनिंग में 80 प्रतिशत सैनिक असफल हो जाते हैं और मात्र 15 से 20 %  सैनिक ही अंतिम दौड़ में पहुँचने में सफल होते हैं। इसके बाद अंतिम दौड़ में आए सैनिकों को 90 दिन (3 माह ) की एक विशेष ट्रेनिंग दी जाती है|

एनएसजी कमांडोज की तीन माह की ट्रेनिंग के पहले सप्ताह के दौरान  शुरुआत में 18 मिनट के अन्दर 26 करतब करने होते हैं और 780 मीटर की बाधाओं को मात्र 20-25 मिनट में पूरा करना होता है| यदि कोई भी सैनिक निर्धारित समय के दौरान अपना टारगेट समाप्त नही करता है, तो उन्हें उन्हें रिजेक्ट कर दिया जाता है। यदि कोई कमांडो ए-श्रेणी हासिल करना चाहता है, तो उन्हें अपना टारगेट सिर्फ 9 मिनट में पूरा करना होता है|    

चयनित कमांडो को अपनी फायर प्रैक्टिस के दौरान लगभग 50 से 60 हजार जिंदा कारतूसों को अपनी फायर प्रैक्टिस में प्रयोग करना होता है। कई बार तो एक दिन में ही एक कमांडो को 2 से 3 हजार फायर करनी होती है। कमांडोज को 25 सेकेंड के अन्दर 14 अलग-अलग टारगेट हिट करने होते हैं और यह सभी टारगेट अलग-अलग हो सकते हैं। इन सभी टारगेट को एक साथ हिट करने में कमांडोज को ढाई से तीन सेकेंड का ही समय अधिकतम मिलता है।

एनएसजी कमांडो का वेतनमान (NSG Commando Salary)

नेशनल सिक्योरिटी गार्ड यानी एनएसजी कमांडो की मासिक सैलरी 84 हजार रुपये से लेकर लगभग 2 लाख 50,000 हजार रुपये प्रति माह तक मिलता है। यदि हम इनकी औसत वेतन की बात करे तो प्रति माह लगभग 1 लाख 50,000 रुपये मिलता है| इसके साथ-साथ इन्हें अनेक प्रकार की सुविधाएँ और भत्ते भी प्रदान किये जाते हैं। एनएसजी कमांडो को उनकी रैंक तथा अनुभव के आधार पर भी वेतन बढ़ाकर दिया जाता है।