अग्निपथ योजना क्या है | नियम | अग्निपथ योजना के फायदे और कमियां | Agneepath Scheme in Hindi

हमारे देश में ऐसे बहुत से नागरिक हैं, जो सेना में भर्ती होनें के लिए अथक परिश्रम करते हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय मंत्रिमंडल नें सशस्त्र बलों में सेवा करने हेतु भारतीय युवाओं के लिए एक आकर्षक भर्ती योजना का शुभारम्भ किया है | इस योजना का नाम ‘अग्निपथ’ है |  अग्निपथ योजना के अंतर्गत चयनित युवाओं को ‘अग्निवीर’ के रूप में सम्मानित किया जाएगा | अग्निपथ योजना की घोषणा के साथयुवाओं के लिए 4 वर्ष की अवधि के लिए अपने देश की सेवा करने का अवसर खुल गया है।

हालाँकि तीनों सेनाओं प्रमुखों द्वारा इस योजना की घोषणा के बाद से ही पूरे देश में तनाव का माहौल व्याप्त है | ऐसे में प्रश्न यह उठता है, कि आखिर अग्निपथ योजना क्या है ? जिससे पूरे देश में हलचल की स्थिति बनी हुई है | तो आईये जानते है, कि अग्निपथ योजना 2022 क्या है ? इसकी जानकारी देने के साथ ही आपको यहाँ अग्निपथ योजनाक्या है (Agneepath Schemein Hindi) इसके लिए नियम तथा अग्निपथ योजना के फायदे और कमियां के बारें में जानने में मदद मिलेगी |

भारत के क्रांतिकारियों के नामों की सूंची

अग्निपथ योजना क्या है (Agneepath Schemein Hindi)

भारतीय सशस्त्र बलों में अग्निपथ योजना एक ऐसी योजना है, जिसमें चयनित अभ्यर्थियों को 4 वर्ष की अवधि के लिए ‘अग्निवीर’ के रूप में नामांकित किया जाएगा। चार वर्ष की अवधि पूरी होने परअग्निवीर समाज में अनुशासित, गतिशील, प्रेरित और कुशल कार्यबल के रूप में अन्य क्षेत्रों में रोजगार के लिए अपनी पसंद की नौकरी में अपना करियर बना सकते है।

सरकार द्वारा अग्निपथ योजना शुरू किया गया एक ऐसा कदम है, जो भारतीय सेना, भारतीय नौसेना और भारत वायु सेना में 46,000+ सैनिकों की भर्ती के लिए शुरू किया गया है। अग्निपथ योजना के माध्यम से अभ्यर्थियों की भर्ती 4 वर्ष की अवधि के लिए की जाएगी। इन 4 वर्षों के दौरान रंगरूटों को सशस्त्र बलों द्वारा आवश्यक कौशल में ट्रेंड किया जाएगा।

अग्निपथ योजना का विवरण (Agneepath Scheme Details)

अग्निपथ भारतीय युवाओं के लिए एक भर्ती योजना है, जो सशस्त्र बलों में शामिल होना चाहते हैं। अग्निपथ योजना में अधिकारी के पद से नीचे के व्यक्तियों के लिए एक भर्ती प्रक्रिया, फिटर, युवा सैनिकों को 4वर्ष के अनुबंध पर होंगे। यह एक गेम-चेंजिंग प्रोजेक्ट है जो थल सेना, नौसेना और वायु सेना को एक युवा छवि देगा।

इस योजना में अधिकारी के पद से नीचे के व्यक्तियों के लिए भर्ती प्रक्रिया शामिल है |जिसका लक्ष्य फिटर, युवा सैनिकों को अग्रिम पंक्ति में तैनात करना है, जिनमें से कई 4वर्ष के अनुबंध पर होंगे। चार वर्ष की सेवा के पश्चात 25 प्रतिशत अग्निवीरों को योग्यता, इच्छा और चिकित्सा फिटनेस के आधार पर नियमित संवर्ग में रखा जाएगा। इसके बाद वह अगले 15 वर्ष  के पूरे कार्यकाल के लिए कार्य करेंगे। जबकि अन्य 75% अग्निवीरों को 11-12 लाख रुपये के एक्जिट या “सेवा निधि” पैकेज के साथविमुद्रीकृत (Demonetized) किया जाएगा|

अग्निपथ योजना 2022 के फायदे (Agneepath Yojana 2022 Benefits)

सरकार की नई शुरू की गई अग्निपथ योजना के लाभ इस प्रकार है-

25 प्रतिशत कर्मचारियों को रखा जाएगा – इस योजना का सबसे बड़ा लाभ यह है, कि 25% लोगों को उनके सशस्त्र बलों के पदों पर रखा जाएगा। इसका सीधा मतलब है, कि लाखों लोगों को अंततः स्थायी नौकरी मिल जाएगी।

अनुभव और वित्तीय सहायता – जिन अग्निवीरों को नौकरी में बरकरार नहीं रखा जाएगा, उन्हें सशस्त्र बलों की सेवा करने का अनुभव मिलेगा। निस्संदेहवह अपनी सेवा के अंत में अधिक अनुशासित और कुशल बन जाएंगे। इतना ही नहीं इन व्यक्तियों के पास 12 लाख रुपये की वित्तीय सहायता होगी, जिससे वह अपना स्वयं का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं या आगे की शिक्षा के लिए धन का उपयोग कर सकते हैं।

राज्य बलों में भर्ती में प्राथमिकता –‘अग्निवर’ के लिए एक और बड़ा लाभ राज्य सरकार के सुरक्षा बलों में भर्ती में प्राथमिकता होगी। कई राज्यों ने इसके लिए स्वीकृति भी दे दी है। इसके अलावा अग्निवीरों को एक प्रमाण पत्र मिलेगा, जिसे ‘अग्निवीर कौशल’ प्रमाण पत्र के रूप में जाना जाता है।

सीएपीएफ और असम राइफल्स में भर्ती में प्राथमिकता – सरकार द्वारा पहले ही स्पष्ट किया जा चुका है, कि जब सीएपीएस और असम राइफल में भर्ती की बात आती है तो एग्निवर्स को प्राथमिकता दी जाएगी।

अधिक से अधिक लोगों को मिलेगा देश की सेवा करने का मौका – केंद्र सरकार ने कहा है, कि अग्निपथ योजना के माध्यम अधिक से अधिक लोगों को देश की सेवा करने का एक अनोखा अवसर मिलेगा | इसके अलावा प्रत्येक 4 वर्ष में नवागंतुक सशस्त्र बल में शामिल होंगे और इससे सशस्त्र बलों की औसत आयु 32 वर्ष से घटकर 26 वर्ष हो जाएगी। 

S-400 Missile System क्या है

अग्निपथ योजना में कमियां (Agneepath Scheme Drawbacks)

  • ‘अग्निपथ’ योजना से पहले वर्ष में थल सेना, नौसेना और वायु सेना में लगभग 45,000 सैनिकों की भर्ती का रास्ता खुल जाता है, लेकिन चार वर्ष के अल्पकालिक अनुबंध पर। अनुबंध पूरा होने के बादउनमें से 25% को बरकरार रखा जाएगा और बाकी बलों को छोड़ दिया जायेगा।
  • भारत में बेरोजगार युवाओं का एक विशाल पूल है और यह योजना उन लोगों को आकर्षित कर सकती हैजो सेना में शामिल नहीं होना चाहते हैं, लेकिन नौकरी की तलाश में हैं। 4 वर्ष  के बाद बेरोजगार होने की असुरक्षा के कारण अग्निवीरों के काम में प्रेरणा खोने की संभावनायें बढ़ जाती है।
  • अग्निपथ योजना के अंतर्गत सेना में रखने वालों को उनके 4 वर्ष का कार्यकाल समाप्त होने पर 11 लाख रुपये से थोड़ा अधिक की एकमुश्त राशि दी जाएगी। हालांकि उन्हें कोई पेंशन लाभ नहीं मिलता है। अधिकांश लोगो के लिएअपने और अपने परिवार का भरण-पोषण करने के लिए दूसरी नौकरी की तलाश करना आवश्यक हो जाता है।
  • इस योजना के माध्यम से सेना में कार्य करनें वाले लोगो में सैन्य संस्कृति, व्यावसायिकता और युद्ध की भावना कमजोर हो जाएगी।
  • इस स्कीम से भर्ती युवा अर्थात अग्निशामक विपरीतस्थिति में सतर्क रहेंगे और उनमें से अधिकांश दूसरी नौकरी की तलाश में होंगे।

अग्निपथ योजना भर्ती नियम (Agneepath Scheme Recruitment 2022 Rules)

सभी तीन सेवाओं को एक केंद्रीकृत ऑनलाइन प्रणाली के माध्यम से नामांकित किया जाएगा, विशिष्ट रैलियों और परिसर में साक्षात्कार जैसे कि औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान और राष्ट्रीय कौशल योग्यता फ्रेमवर्क जैसे मान्यता प्राप्त तकनीकी कॉलेजों द्वारा आयोजित किया जाएगा। नामांकन ‘अखिल भारतीय सभी वर्ग’ के आधार पर होगा, जिसकी पात्र आयु 17.5 से 21 के बीच होगी। अग्निशामक सैन्य भर्ती के लिए चिकित्सा आवश्यकताओं को पूरा करना आवश्यक है|Agni veersकी शैक्षिक योग्यता विभिन्न श्रेणियों में नामांकन के लिए कक्षा 10 है, जो सामान्य ड्यूटी (GD) सैनिक बनने के लिए न्यूनतम शैक्षिक आवश्यकता है।

एनसीसी (NCC) क्या है

30 दिसंबर से होगी ट्रेनिंग शुरु

अग्निपथ योजना के अंतर्गत भारतीय वायु सेना के तहत रजिस्ट्रेशन कराने वालो की 24 जुलाई से 31 जुलाई ऑनलाइन परीक्षा कराई जाएगी। इसके पश्चात 21 अगस्त से 28 अगस्त तक शारीरिक दक्षता परीक्षा कराई जाएगी इसके बाद 29 अगस्त से 8 नवंबर तक छात्रों की मेडिकल जांच की जाएगी। इन सभी परीक्षाओ को सफलतापूर्वक पास करने वाले छात्रों की सूचि 1 december 2022 की जारी कर दी जाएगी। इसके बाद ही उनकी परीक्षा 30 दिसंबर तक शुरू होगी।