नायब तहसीलदार क्या है | वेतन | योग्यता | आयु सीमा | चयन प्रक्रिया

हमारे देश का प्रत्येक राज्य कई जिलों से मिलकर बना है, तथा प्रत्येक जिले में अनेक तहसील होती है, तहसील का मुख्य प्रभारी तहसीलदार होता है| तहसीलदार के अंतर्गत नायब तहसीलदार कार्य करता है, यह दोनो अधिकारी राजस्व प्रशासन के अंतर्गत प्रमुख अधिकारी होते है | तहसीलदार और नायब-तहसीलदार  सहायक कलेक्टर ग्रेड के अधिकारों का प्रयोग करते है, इनका कार्य उप-रजिस्ट्रार राजस्व संग्रहण और पर्यवेक्षण करना होता है |

तहसीलदार का पद जिले का सम्माननीय तथा महत्वपूर्ण पद होता है, पदोन्नति के बाद तहसीलदार को उप प्रभागीय न्यायाधीश (एसडीएम) का पद प्राप्त होता है, तथा नायब तहसीलदार  पदोन्नति के बाद जिला तहसीलदार के पद पर आसित होते है इस पृष्ठ में आपको “नायब तहसीलदार क्या है, वेतन, योग्यता, आयु सीमा, चयन प्रक्रिया” उपलब्ध  कराई गयी है |

उत्तर प्रदेश में कितनी तहसील है

नायब तहसीलदार क्या है (Naib Tehsildar Kya Hai)

तहसील में तहसीलदार के समान ही नायब तहसीलदार को भी राजस्व तथा न्यायाधीश में कर्तव्यों का निर्वहन करना होता है, तथा तहसीलदार के अधीनस्थ नायब तहसीलदार कार्य करता है, नायब तहसीलदार को उप तहसीलदार भी कहते है | राजस्व सम्बन्धी मामलो में तहसीलदार के ही समान सहायक कलेक्टर ग्रेड 2 की शक्तियों का प्रयोग नायब तहसीलदार भी करता है | तहसील सम्बन्धी किसी भी कार्य की रिपोर्ट तहसीलदार के सामने प्रस्तुत करना होता है | तहसीलदार को क्लास-१ राजपत्रित अधिकारी तथा राजस्व निरीक्षक भी कहते है |

निवास प्रमाण पत्र (Domicile Certificate) 

तहसीलदार/ नायब तहसीलदार के लिए शैक्षिक योग्यता (Tehsildar/ Naib Tehsildar Qualification)

तहसीलदार या नायब तहसीलदार बननें के लिये अभ्यर्थी को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक अथवा परास्नातक की परीक्षा उत्तीर्ण होना आवश्यक होता है |

नायब तहसीलदार के लिए आयु सीमा (Age Limit for Tehsildar/NaibTehsildar)

तहसीलदार या नायब तहसीलदार बनने के लिए अभ्यर्थी की आयु न्यूनतम 21 वर्ष तथा  अधिकतम 42 वर्ष होनी चाहिए |

उत्तर प्रदेश विवाह अनुदान योजना 

तहसीलदार पद की चयन प्रक्रिया (Selection Process for Tehsildar Post)

तहसीलदार बनने प्रक्रिया तीन चरणों में पूरी होती है, वह इस प्रकार है –

  • जाँच परीक्षा (Screening Test)
  • मुख्य परीक्षा (Main Exam)
  • साक्षात्कार (Interview)

जाँच परीक्षा (Screening Test)

नायब तहसीलदार बनने के लिए उम्मीदवार को सबसे पहले‌ जाँच परीक्षा से गुजरना पडता है, इसमें छात्र  से सामान्य ज्ञान से सम्बंधित बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाते है, जिनके लिए 2 घंटे का समय निर्धारित रहता है | इस परीक्षा में सफल होने के बाद छात्र को मुख्य परीक्षा के लिये चुना जाता हैं |

सीडीओ (CDO) कैसे बने

मुख्य परीक्षा (Main Exam)

जाँच परीक्षा में सफल हो जाने के बाद छात्र  को मुख्य परीक्षा देना होता है, मुख्य परीक्षा में 4 प्रश्न पत्र होते है, सभी प्रश्नपत्र में ही अच्छे अंको से पास होना आवश्यक होता है | जाँच परीक्षा से मुख्य परीक्षा कठिन होती है, इस लिए अधिक परिश्रम की आवश्यकता होती है, इस परीक्षा से प्राप्त किये गए अंको पर आपकी रैंकिंग निर्धारित होती है, जिसके आधार पर आपको साक्षात्कार में बुलाया जाता है |

साक्षात्कार (Interview)

साक्षात्कार परीक्षा का अंतिम चरण होता है, जिसमे जाँच परीक्षा व मुख्य परीक्षा में सफल छात्रों को सम्मिलित किया जाता है, साक्षात्कार प्रक्रिया के अंतर्गत छात्रों से सवाल के द्वारा उनकी योग्यता का आकलन किया जाता है, तथा छात्रों से पूछें गये प्रश्नों के उत्तर संतोषजनक होने पर उन्हें सफल‌ घोषित किया जाता हैं | इस प्रकार नायब तहसीलदार की चयन प्रक्रिया पूर्ण होती है |

उत्तर प्रदेश में कुल कितने जिले है

नायब तहसीलदार पद की चयन प्रक्रिया (Naib Tehsildar Post Selection Process)

नायब तहसीलदार बननें के लिए छात्र को तीनो चरणों की चयन प्रक्रिया से गुजरने के बाद सफल छात्रों को नायब तहसीदार पद के लिए चयनित किया जाता है | नायब तहसीलदार के पदों की नियुक्ति 50 प्रतिशत पद सीधी भर्ती द्वारा तथा 50 प्रतिशत पद निरीक्षक संवर्ग से पदोन्‍नति द्वारा की जाती है, तथा सीधी भर्ती के लिए राजस्थान सेवा आयोग के द्वारा प्रतियोगी परीक्षा का आयोजन करके चयन किया जाता है | पदोन्‍नति के पदों के अंतर्गत प्रतिशत भू-अभिलेख निरीक्षक, 5 प्रतिशत भू-प्रबन्‍ध निरीक्षक तथा 3 प्रतिशत पद उपनिवेशन निरीक्षकों से भरे जाने का प्रावधान है, तहसीलदार तथा नायब तहसीलदार के लिए 85 प्रतिशत पद पदोन्‍नति के द्वारा भरे जाते है |

तहसीलदार तथा नायब तहसीलदार का वेतन (Naib Tehsildar Salary)

तहसीलदार तथा नायब तहसीलदार को वेतन के रूप में 9300 रुपये से 34800 रुपये प्राप्त होते है, तथा इसके साथ-साथ निवास के लिए सरकारी भवन,  वाहन तथा अन्य कर्मचारी भी दिए जाते है |

उत्तर प्रदेश एक जनपद एक उत्पाद योजना

नायब तहसीलदार के कार्य (Naib Tehsildar Work)

  • नायब तहसीलदार भूमि राजस्व और सरकार के द्वारा दिए धन की बकाया राशि के संग्रह करने की जिम्मेदारी इन्ही की होती हैं |
  • अधीनस्थ राजस्व कर्मचारियों के संपर्क में रहना होता है |
  • मौसमी तथा फसल की स्थिति का निरीक्षण करना होता है |
  • किसानों की परेशानियों को सुनना तथा ऋण वितरित करने का कार्य करना होता है |
  • नायब तहसीलदार को अपने आधिकारिक क्षेत्र का दौरा करना होता है |
  • भूमि से सम्बंधित विवादों का निर्णय करना तथा अपने उच्च अधिकारी को अवगत करना होता है |
  • खाता पुस्तकों में प्रविष्टियों में सुधार करना होता है |
  • प्राकृतिक आपदाओं से पीड़ित लोगों को राहत प्रदान करने में सहायता करना |
  • किरायेदारी से सम्बंधित विवादों को सुलझाने का कार्य अदालत में बैठ कर करते है |

पंचायत सहायक क्या है 

नायब तहसीलदार परीक्षा की तैयारी के लिए सुझाव (Naib Tehsildar Prepairing Tips)

  • सर्वप्रथम अपना लक्ष्य निर्धारित करे की आप को नायब तहसीलदार बनना है |
  • नायब तहसीलदार की परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए समय सारणी का प्रयोग करे, जिससे आप सभी विषयो पर ध्यान दे सकेंगे तथा सही से तैयारी हो सकेगी |
  • परीक्षा में सफलता के लिए पुराने प्रश्नपत्रो तथा मॉडल पेपर की सहायता ले, जिससे आपको जानकारी होगी | परीक्षा में किस प्रकार के प्रश्न पूछे जाते है, साथ ही पुराने प्रश्नपत्रो को पढने के साथ हल भी करिये |
  • नायब तहसीलदार की परीक्षा में आपसे सामान्य ज्ञान और तत्काल में होने वाली घटनाओ से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है | इसके लिए आपको अख़बार पढ़ना चाहिये |
  • इंटरनेट की सहायता से भी वर्तमान घटनाक्रम की जानकारी प्राप्त कर सकते है |

जज कैसे बने 

इस पोस्ट में आपको नायब तहसीलदार के विषय में पूरी जानकारी उपलब्ध कराई गयी है, अब उम्मीद करता हू, आपको पसन्द आयी होगी |

शौचालय प्रमाण पत्र क्या है