LAC Kya Hai | एलएसी का फुल फॉर्म – भारत चीन के बीच LAC विवाद क्या है

LAC Kya Hai

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद किसी से छूपा नहीं है, यह विवाद खासतौर पर LAC के लेकर है और यह एक अंतर्राष्ट्रीय विवाद भी बन चूका है हालिकि दोनों देश सीमा विवाद सुलझाने में किसी तीसरे का सहारा नहीं लेते है फिर वो चाहे अमेरिका हो या UNSC | वैसे तो भारत और चीन के बीच साझित बॉर्डर की लम्बाई काफी है लेकिन इसमें से कुछ ही हिस्सों पर भारत और चीन का विवाद सदियों से है और अक्सर न्यूज़ चैनल और पोर्टल पर हमे काफी देखने को भी मिलता है |

क्या है एलएसी का मतलब

भारत और चीन के बीच सीमा का निर्धारण एलएसी रेखा के द्वारा किया जाता है | एलएसी लाइन के इस पार का इलाका भारत का और दूसरी ओर का इलाका चीन के माना जाता है| समान्यता भारत और चीनी सीमाओं को अलग करने वाले रेखा को ही LAC कहा गया है | तथा इसी प्रकार भारत और पाकिस्तान की सीमा रेखा को ही LOC कहा जाता है |

एलएसी का फुल फॉर्म

मुख्य रूप से एलएसी का फुल फॉर्म हिंदी भाषा में वास्तविक नियंत्रण रेखा है जिसे अंग्रेजी भाषा में Line of Actual Control (LAC) कहा जाता है | भारत-चीन सीमा का लम्बाई 3,488 किलोमीटर है जोकि चीनी द्वारा 2,000 किलोमीटर बताई जाती है |

भारत और चीन के सीमाए और विवाद

भारत-चीन के बीच Line of Actual Control (LAC) को तीन भागो में समझा जा सकता है जैसेपूर्वी सेक्टर में अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम, मध्य सेक्टर में उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश और पश्चिमी सेक्टर में लद्दाख को शामिल किया जाता है | इसमें से भी भारत चीन मुख्यविवाद पश्चिम सेक्टर में है |

इसमें भी पूर्वी लद्दाख में स्थित पेंगोंग झील के आस – पास के क्षेत्रों में विवाद है जिसमे चीन द्वारा अन्तराल में घुसपैठ चलती रहती है| पेगोंग झील (Pangong Tso) के आसपास की पहाड़ियों और घाटियों की बनावट उंगलियों की तरह है अत: इसे ही “फिंगर्स एरिया” कहा जाता है। भारत इसमें से 8 फिंगर तक अपना क्षेत्र मानता है और वही चीन 2 फिंगर पर अपना दावा करता है |

इससे अलग पश्चिमी सेक्टर में पेगोंग झील के उत्तर में स्थित हॉट स्प्रिंग इलाके में भी LAC पर भारत चीन विवाद है जिसमे हॉट स्प्रिंग क्षेत्रके उत्तर दिशा में मौजद गलवान घाटी (Galwan Valley) में हाल ही में विवाद सामने आया है जिसे लेकर 1962 के बाद से चीन ने कभी अपना दावा नहीं किया है | यह इतिहास में पहली बार ही जब चीन गलवान घाटी पर अधिकार जताने लगा|

भारत चीनसीमा की सुरक्षा

यह कार्य भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल (ITBP) को भारत सरकार द्वारा सोंपा गया है | ITBP भारत सरकार के ग्रह मंत्रालय के आधीन अर्धबल है | 1962 के बाद भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल (ITBP) का गठन किया गया था जिससे देश की सीमा में फिर से किसी विदेशी द्वारा आक्रमण ना किया जा सके, भारत-चीन युद्ध के बाद से भारत में अपनी सीमा में काफी मात्रा में सेन्य बल स्थापित किया |