नवीन रोजगार छतरी योजना क्या है | ऑनलाइन आवेदन – पात्रता, लाभ की जानकारी

नवीन रोजगार छतरी योजना

कोरोना के कारण देश जारी लॉकडाउन के दौरान लोगो का जन-जीवन बहुत ही बुरी तरह से प्रभावित हुआ है| इसमें सबसे अधिक समस्याओं का सामना श्रमिकों / कामगारों, ठेला, खोमचा, रेहड़ी लगाने वाले या दैनिक कार्य करने वाले लोगो को करना पड़ा | ऐसी स्थिति को देखते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी जी नें प्रदेश में अनुसूचित जाति के गरीब व्यक्तियों के सर्वांगीण विकास के लिए नवीन रोजगार छतरी योजना का शुभारंभ किया है। इस योजना के माध्यम से अनुसूचित जाति के गरीब व्यक्तियों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी, ताकि वह स्वयं का व्यवसाय शुरू कर सके और आर्थिक रूप से मजबूत होकर समाज की मुख्यधारा से जुड़कर कर आगे बढ़ सके। आईये जानते है, कि नवीन रोजगार छतरी योजना क्या है? इसके लिए पात्रता, लाभ और ऑनलाइन आवेदन के बारें में आपको विस्तार से जानकारी दे रहे है|

नवीन रोजगार छतरी योजना विवरण

योजना का नामनवीन रोजगार छतरी योजना
किसके द्वारा लॉन्च की गयीमुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के द्वारा 
लॉन्च की तारीक18 जुलाई 2020
लाभार्थीअनुसूचित जाति के विस्‍थापित व बेरोजगार श्रमिक
उद्देश्यदलित श्रमिकों की आर्थिक मदद कर उन्हें रोजगार प्रदान करना
ऑफिसियल वेबसाइटउपलब्ध नहीं

नवीन रोजगार छतरी योजना क्या है

नवीन रोजगार छतरी योजना की शुरुआत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी नें 18 जुलाई 2020 को वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से की|  इस योजना का मुख्य उद्देश्य प्रदेश के अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति (SC / ST) परिवारों को लाभान्वित करना तथा उनके लिए रोजगार के अवसर प्रदान करना है| इस योजना के माध्यम से राज्य के विस्थापित और बेरोजगार अनुसूचित जाति के परिवारों को 7.50 लाख की वित्तीय सहायता देने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

उत्तर प्रदेश सरकार का मानना है, कि यदि एससी / एसटी समुदाय को मुख्यधारा के समाज में शामिल होने के लिए आर्थिक रूप से उत्थान किया जा सकता है, तो कोई भी उनके खिलाफ भेदभाव करने की कोशिश नहीं करेगा। पंडित दीन दयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना के तहत 3,484 बीपीएल परिवारों के खातों में 17.42 करोड़ रुपये की सब्सिडी राशि भी हस्तांतरित की गई है।  

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा इस योजना के माध्यम से दी गयी धनराशि का उपयोग परचून की दुकान, जनरेटर सेट, लाण्ड्री तथा ड्राइक्लीनिंग, साइबर कैफे, टेलरिंग, टेन्ट हाउस, गौ-पालन आदि के लिए किया जायेगा। 

नवीन रोजगार छतरी योजना का उद्देश्य

सरकार द्वारा इस योजना को शुरू करनें का मुख्य उद्देश प्रदेश के गरीब, दलितों, मजदूरों और श्रमिकों को आर्थिक सहायता प्रदान करना है| योजना के अंतर्गत मिलने वाली राशि से वह अपना व्यवसाय शुरू कर अपनी आर्थिक स्थिति को सुधार सकते है|  मुख्यमंत्री योजी जी ने कहा कि इस तरह की योजनाओं के माध्यम से ही इस वर्ग के लोग देश की अर्थव्यवस्था और मुख्यधारा से मजबूती से जुड़ सकते हैं। 

कोरोना के कारण जारी लॉकडाउन के चलते देश की अर्थव्यवस्था पटरी से उतर चुकी है, जिसके कारण मजदूरों और श्रमिकों को अनेक प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है| ऐसे में यदि एक वर्ग मजबूत हो जाए और दूसरा वर्ग कमजोर हो, तो ऐसा समाज कभी आत्मनिर्भर नहीं बन सकता। इसी बात को ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा इस योजना का शुभारम्भ किया गया है|  

नवीन रोजगार छतरी योजना से लाभ

  • इस योजना के माध्यम से राज्य के अनुसूचित जाति के निर्धन और गरीब व्यक्तियों, श्रमिको को रोजगार शुरू करने का अवसर प्राप्त होगा|
  • नवीन रोजगार छतरी योजना राज्य के अनुसूचित जाति के सर्वांगीण विकास में सहायक सिद्ध होगी।
  • इस धनराशि का उपयोग लोग केवल परचून की दुकान, जनरेटर सेट, लॉन्ड्री व ड्राई क्लीनिंग, साइबर कैफे, टेलरिंग, बैंकिंग कॉरेस्पॉन्डेंट, टेंट हाउस, गौ-पालन आदि के लिए कर सकते है।
  • उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अनुसूचित जाति के लाभार्थियों को प्रदान किए गए स्वरोजगार की राशि में ऋण के साथ-साथ अनुदान की राशि भी शामिल है जो राज्य सरकार द्वारा वहन की जा रही है।
  • समाज में संतुलन होना चाहिए और यह संतुलन न केवल सामाजिक स्तर पर बल्कि आर्थिक स्तर पर भी होना चाहिए|

नवीन रोजगार छतरी योजना पात्रता

  • आवेदक को उत्तर प्रदेश राज्य का स्थाई निवासी होना आवश्यक है।
  • आवेदक दीनदयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना में पंजीकृत होना अनिवार्य है।
  • योजना का लाभ केवल अनुसूचित जाति के जरूरतमंद लोगों को ही दिया जायेगा ।

योजना हेतु आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • मूल निवास प्रमाण पत्र
  • बैंक पास बुक
  • फोटो
  • आधार लिक मोबाईल नम्बर

योजना के मुख्य बिंदु

  • उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित हर बैंक शाखा को एक लक्ष्य दिया है, कि वह कम से कम दो SC / ST और महिला लाभार्थियों को अनिवार्य रूप से ऋण प्रदान करे।
  • राज्य में लगभग 18000  बैंक शाखाएं हैं, इनके द्वारा 36000 लोगों को लाभ पहुँचाया जा सकता है।
  • उत्तर प्रदेश सरकार इस योजना द्वारा अनुसूचित जाति के गरीब लोगो को वित्तीय सहायता देकर उन्हें स्वावलंबी बनाने का कार्य किया जा रहा है।
  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य के अनुसूचित जाति के गरीब और श्रमिको को आर्थिक सहायता प्रदान कर उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार करना है।

नवीन रोजगार छतरी योजना ऑनलाइन आवेदन

योजना के अंतर्गत आवेदन करने के लिए अभी तक उत्तर प्रदेश की राज्य सरकार की तरफ से कोई गाइडलाइन जारी नही की गई है। इसका मुख्य कारण यह है कि इसकी आधिकारिक घोषणा अभी हाल ही में हुई है| योजना को सुचारू रूप से प्रदेश में लागू करने के लिए सम्बन्धित विभाग द्वारा रूपरेखा तैयार की जा रही है, जिसका कार्य जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा। उसके बाद इस योजना को विधिवत रूप से शुरू किया जा सकेगा।

इस योजना के लिए ऑनलाइन / ऑफलाइन आवेदन प्रक्रिया जैसे ही शुरू होगी, उसकी जानकारी तुरन्त हम आपको हमारे इस आर्टिकलके माध्यम से देंगे ।