कंप्यूटर इंजीनियर (Computer Engineer) कैसे बने | कोर्स | योग्यता | सैलरी

कंप्यूटर इंजीनियर (Computer Engineer)

यदि हम इंजीनियरिंग की बात करे तो यह क्षेत्र बहुत ही विस्तृत है| हालाँकि वर्तमान में इंजीनियरिंग से सबंधित कोर्स और संस्थानों की संख्या निरंतर बढ़ती जा रही है, परन्तु यह आपके ऊपर निर्भर करता है, कि आप किस क्षेत्र में इंजीनियरिंग करना चाहते है| जैसा कि हम सभी जानते है, कि वर्तमान में कंप्यूटर का स्कोप लगातार बढता जा रहा है| ऐसे में अनेक छात्रों का रुझान कंप्यूटर इंजीनियरिंग की तरफ बढ़ा है, परन्तु इसके लिए आपको तर्क क्षमता और सीखनें की ललक होनी चाहिए| किसी भी क्षेत्र में आप सफलता तभी प्राप्त कर सकते है, जब आपका पूरा ध्यान और प्रयास उसी निर्धारित लक्ष्य पर होगा| यदि आपने कंप्यूटर इंजीनियर बननें का लक्ष्य निर्धारित कर लिया है, और आप एक कंप्यूटर इंजीनियर बनना चाहते है, तो आईये जानते है कंप्यूटर इंजीनियर (Computer Engineer) कैसे बने ?

कंप्यूटर इंजीनियरिंग क्या है (What Is Computer Engineering)

कंप्यूटर इंजीनियरिंग, कंप्यूटर साइंस और इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग का कॉम्बिनेशन होता है| इसके अंतर्गत मुख्य रूप से कंप्यूटर के हार्डवेयर और सॉफ्टवेर पार्ट को डिजाईन करने में प्रयोग किया जाता है| यदि आप एक कंप्यूटर असेम्बल करना चाहते है, तो आपको इलेक्ट्रिकल और कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग का ज्ञान होना अत्यंत आवश्यक है| इसके साथ ही और कई महत्वपूर्ण चीज़े होती है, जिनकी जाकारी होना बेहद आवश्यक है|  

कंप्यूटर इंजीनियर बनने के लिए योग्यता (Educational Qualification)

कंप्यूटर इंजीनियर बनने के लिए साइंस सब्जेक्ट (Physics, Chemistry, Maths) से 12वी 60% अंको से पास होना चाहिए।

कंप्यूटर इंजीनियर कैसे बनें (Computer Engineer Kaise Bane)

एंट्रेंस एग्जाम के लिए आवेदन करे (Apply For Entrance Exam)

12वीं की परीक्षा में शामिल होते समय आप कंप्यूटर इंजीनियरिंग से सम्बंधित एंट्रेंस एग्जाम का फार्म भरना होगा, आप इसके लिए इंटर की परीक्षा पास करनें के बाद भी आवेदन कर सकते है| कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग विषय का चयन कर परीक्षा में शामिल होना होगा|

लिखित परीक्षा हेतु तैयारी (Prepration Of Written Exam)

कंप्यूटर इंजिनियर बननें हेतु लिखित परीक्षा हेतु आवेदन करनें के बाद प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी | हमारे देश में अनेक ऐसे संसथान है ,जहाँ से आप कंप्यूटर इंजीनियरिंग के पाठ्यक्रम की पढाई कर सकते है |

काउंसलिंग के पश्चात शिक्षण संस्थान का चयन (Selection For College)

प्रवेश परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के बाद आपको काउंसलिंग के माध्यम से कालेज में प्रवेश प्राप्त होगा ,और यह प्रवेश का आधार आपके द्वारा प्राप्त अंको के अनुसार प्राप्त होगा, इसलिए आप प्रवेश परीक्षा देने से पूर्व ,परीक्षा की तैयारी अच्छी तरह से करें | कंप्यूटर इंजिनियरिंग पाठ्यक्रम की अवधि 4 वर्ष होती है|  एक अच्छे इंजीनियर बननें के लिए आपको चार वर्ष तक कठिन परिश्रम करना होगा ,पाठ्यक्रम समाप्ति के बाद आप एक कंप्यूटर इंजीनियर कहलायेंगे |

कंप्यूटर इंजीनियरिंग में भविष्य (Future In Computer Engineering)

कम्प्यूटर इंजीनियरिंग का भविष्य बहुत ही उज्जवल है, क्योंकि इस क्षेत्र में  निरंतर प्रगति जारी है| कंप्यूटर इंजिनियर अधिकतर निजी क्षेत्रों में जाने का प्रयास करते है, क्योंकि निजी क्षेत्र में सेलरी अधिक मिलती है | कोर्स समाप्त होने से पूर्व कुछ छात्रों का कैंपस सेलेक्शन हो जाता है ,जिसे वह कोर्स समाप्ति के बाद ज्वाइन कर लेते है |

कंप्यूटर इंजीनियरिंग में सैलरी (Salary)

कंप्यूटर इंजीनियरिंग एक ऐसा क्षेत्र है, जहा छात्रों को अच्छी सैलरी पैकेज मिलता है| एक फ्रेशर के रूप में आप भारत में अपने करियर की शुरुआत में 2 लाख प्रति वर्ष से 3 लाख प्रतिवर्ष सैलरी पैकेज की उम्मीद कर सकते हैं| यदि आप इस क्षेत्र में काफी निपुण हो जाते है तो आप भारत से बाहर किसी देश में आपको जॉब मिल सकती है जहा आप 6 अंकों में सैलरी प्राप्त कर सकते हैं| आपकी संभावनाओं के आधार पर आपको ऑफर की जाने वाली सैलरी मुख्य रूप से निर्भर करती है|