ऍनएफसी (NFC) क्या होता है | NFC काम कैसे करता हैं | एनएफसी मोड की पूरी जानकारी – हिंदी में

ऍनएफसी (NFC) से संबंधित जानकारी

आज के समय में अधिकांश लोग स्मार्ट फ़ोन का प्रयोग करते है, ऍनएफसी एक टेक्नोलॉजी है यह सभी स्मार्ट फोन में उपलब्ध नहीं है, यह टेक्नोलॉजी नए महंगे स्मार्ट फोन में ही उपलब्ध है, जिसके प्रयोग के लिए दो डिवाइसों की आवश्यकता कम्युनिकेशन के लिए होती है, ऍनएफसी टेक्नोलॉजी के द्वारा एक डिवाइस से दूसरी डिवाइस को कनेक्ट करके कम्यूनिकेट करके फोन का डाटा साँझा या स्थानांतरित कर सकते है,  आप लोगो में से बहुत से लोगो ने ऍनएफसी के विषय सुना होगा तथा अधिकतर लोगो ने यह ऍनएफसी शब्द सुना होगा लेकिन इस विषय में उन्हें पूरी जानकारी उपलब्ध नहीं होगी इसलिए आज आपको इस पृष्ठ पर ऍनएफसी के विषय के सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध कराएँगे कीऍनएफसी क्या है? इसके क्या उपयोग है? तथा यह कैसे काम करता है? आदि|

ऍनएफसी (NFC) क्या है?

ऍनएफसी (NFC) का फुलफॉर्म नियर फील्ड कम्युनिकेशन(Near Field Communication) होता है जिसका मतलब आस-पास की डिवाइस से कम्युनिकेट करना होता है, इसे हाई फ्रीक्वेंसी वायरलेस कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी भी कहते है, ऍनएफसी के कनेक्ट करने की सीमा 4 सेंटीमीटर से 5 सेंटीमीटर तक होती है, इससे अधिक दूरी होने में कनेक्टिविटी में परेशानी आती है तथा ऍनएफसी कनेक्ट की सीमा कम होने के कारण फ़ोन की बैटरी भी कम प्रयोग होती है| यह वायरलेस टेक्नोलॉजी होने के साथ ही इसकी कनेक्टिविटी भी तेज तथा सुरक्षित है तथा इस सुविधा में वाई फाई तथा ब्लूटूथ की आवश्यकता नहीं होती है |

ऍनएफसी इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडियो फील्ड का प्रयोग कर कनेक्टिविटी करता है इसलिए एक डिवाइस को दूसरी डिवाइस के नजदीक इलेक्ट्रोमेग्नेटिक फील्ड के अंदर लाना होता है ताकि दोनों डिवाइस कम्युनिकेट कर सके| जिससे दोनों डिवाइसों का डाटा सरलता से आपस में साँझा हो सके,  ऍनएफसी चिप को मोबाइल के ऊपर, बैटरी या मोबाइल के कवर पर लगाया जा सकता है तथा मोबाइल की सेटिंग में जाकर इसे एक्टिवेट करते है तथा यह 106 केबीपीएस (kbps) से लेकर 424 केबीपीएस (kbps) तक की स्पीड को ऍनएफसी सपोर्ट करता है, मोबाइल का डाटा इसी स्पीड के माध्यम से साँझा तथा स्थानांतरित किया जाता  है|

ऍनएफसी (NFC) किस प्रकार कार्य करता है?

ऍनएफसी नाम से ही स्पष्ट होता है, नियर फील्ड कम्युनिकेशन जिसके अंतर्गत दोनों डिवाइसों को कम्यूनिकेट करने के लिए नजदीक लाना होता है तथा दोनों मोबाइल की सेटिंग में जाकर ऍनएफसी को एक्टिवेट करने पर  इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडियो फील्ड का एक सर्किल आस-पास के क्षेत्र में बन जाता है जिससे दोनों डिवाइस इलेक्ट्रोमैग्नेटिक क्षेत्र में होने के कारण कनेक्ट हो जाती है जिससे दोनों डिवाइसों में डाटा साँझा होने लगता है डाटा साँझा करने के लिए एक डिवाइस से डाटा भेजा (send) जाता है तथा दूसरी डिवाइस से डाटा को प्राप्त (Receive) किया जाता है तथा काम ख़तम होने पर स्वयं आटोमेटिक बंद हो जाता है, ऍनएफसी कम्युनिकेशन प्रक्रिया पूर्ण रूप से सुरक्षित है|

ऍनएफसी कार्ड (chip) क्या है?

ऍनएफसी कार्ड में एक छोटी सी चिप होती है जिसे टैग भी कहते है इस टैग के अंदर एक माइक्रोचिप होता है जिसमे बाइट्स (bytes) में डाटा या कमांड जैसे पासवर्ड, कमेंट, सेटिंग, इनफार्मेशन आदि को स्टोर कर सकते है  तथा जब आप ऍनएफसी कार्ड को दूसरी ऍनएफसी डिवाइस के नजदीक लाएंगे तब यह कमांड एक्टिवेट होकर काम करने लगता है | गूगल प्ले स्टोर में जाकर ऍनएफसी ट्रिगर अप्प के माध्यम से आप ऍनएफसी टैग के अंदर कमांड डाल सकते है|

ऍनएफसी (NFC) मोड्स क्या है?

ऍनएफसी डिवाइस में तीन मोड्स के अंतर्गत काम होता है वह इस प्रकार है:-

  • पीअर टू पीअर (Peer to Peer) इस मोड के अंतर्गत दोनों डिवाइस को एक्टिवेट करना होता तभी डाटा साँझा होता है यह सबसे अधिक प्रयोग किया जाने वाला मोड है|
  • रीड / राईट मोड (Read/Write) इस मोड में वनवे कम्युनिकेशन होता है जिसके अंतर्गत आप डाटा को दूसरी डिवाइस से कनेक्ट कर डाटा को केवल रीड कर सकते है|
  • कार्ड एमुलेशन (Card Emulation) इस मोड के अंतर्गत आप इस डिवाइस को डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड तथा स्मार्ट कार्ड के रूप में प्रयोग कर सकते है|

ऍनएफसी (NFC) के लाभ

  • ऍनएफसी के माध्यम से आप डाटा साँझा तथा स्थानांतरित कर सकते है|
  • ऍनएफसी का प्रयोग डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड के रूप में करके आप पेमेंट कर सकते है|
  • ऍनएफसी का प्रयोग बिजनेस कार्ड के रूप में करके आप फेसबुक, कॉन्टेक्ट डिटेल, वेबसाइट तथा अन्य जानकारी सुरक्षित रख सकते है|
  • ऍनएफसी का प्रयोग कैमरे में करके आप वीडियो, ऑडियो तथा फोटो साँझा कर सकते है| 

इस पृष्ठ पर आपको ऍनएफसी से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध कराई है उम्मीद है आपको पसंद आयी होगी|