Bakri Palan In Hindi | बकरी पालन कैसे करें, यहां जानें

murgi farm kaise khole :- आज के इस लेख के तहत हम जानेंगे की बकरी पालन कैसे किया जा सकता है। हम अपने पाठकों को बताना चाहेंगे की किसानों के लिए कम लागत में ज्यादा मुनाफा देने वाली व्यवसाय है। इस व्यवसाय को लोग कम स्तर को काफी बढे स्तर पर काफी आसानी से ले जाया सकता है। जो भी व्यक्ति चाहे खेती से सम्बन्ध रखते हो या नहीं अब आसानी से बकरी पालन Goat farming कर सकते है। तो हमारा सभी पाठको से निवेदन है की वह लेख को अंत तक अवश्य पढ़े।

श्रमिक एक्सप्रेस टाइम टेबल 

आधुनिक बकरी पालन क्या है (bakri palan in hindi)

जैसा कि आप सभी जानते ही होंगे कि पहले किसान भाई खेती के साथ-साथ 5 या 10 बकरियों का पालन करते थे ।जिससे ज्यादा मुनाफा तो नहीं हो पाता था परंतु फिर भी थोड़ा बहुत बच जाता था परंतु अब किसान से व्यवसाय के रूप में अपना रहे हैं इसके लिए किसान भाई अलग से मुर्गी पालन की तरह ही है शेड का निर्माण कल के ज्यादा बकरियों को एक साथ रख रहे हैं ।और बकरी पालन का व्यवसाय शुरू कर रहे हैं। बकरी पालन का तरीका भी आधुनिक इस समय हो गया है। इससे हीव्यवसायिक बकरी पालन कहते हैं।

murgi farm kaise khole


बकरी पालन में कमाई (goat farming income)

किसान सभी नागरिकों के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं । वैसे तो किसान भाइयों के लिए सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाओं को शुरू किया जाता रहता है।  जिसके माध्यम से किसान भाइयों को अधिक लाभ प्राप्त होता है । परंतु किसान भाई भी अपने आय को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न प्रकार की व्यवस्था  की शुरुआत करते रहते हैं ।जैसे विभिन्न फलों की खेती करने के साथ-साथ मुर्गी पालन एवं बकरी पालन मुर्गी पालन के पश्चात बकरी पालन किसानों का काफी पसंदीदा व्यवसाय बनता जा रहा है क्योंकि इसका कारण यह है कि यह व्यवस्था कम लागत में ज्यादा मुनाफा देता है।

पिछले कुछ सालों में बकरी पालन में अधिक वृद्धि हुई है क्योंकि मुर्गी पालन में ज्यादा देखभाल एवं दवाओं की जरूरत होती है। बीमारियों का खतरा होने से अधिक नुकसान भी होने की संभावना रहती है यदि आप भीबकरी पालन करना चाहता है तो 2 साल के अंदर 200 से भी ज्यादा बकरियों की संख्या को बढ़ा सकता है  ।जिससे कि लाखों की कमाई हो सकती है ।

बकरी पालन क्यों चुनें?(Why choose goat farming?)

आपके लिए बकरी पालन व्यवसाय करना अधिक फायदेमंद हो सकता है ,क्योंकि इसमें आपको ज्यादा पैसों की भी शुरुआत में जरूरत नहीं लगेगी और बकरी पालन के व्यवस्थाएं को एक या दो व्यक्ति आसानी से कर सकते हैं। यदि प्रशिक्षण प्राप्त कर इस बिजनेस को शुरू करना चाहते हैं। तो आपको अधिक फायदा होगा। जिससे आपको बकरी पालन की सभी आधुनिक प्रशिक्षण प्राप्त हो सकेगा। जिसके लिए सरकार हर समय पर बकरी पालन के लिए प्रशिक्षण भी प्राप्त कर देती है।

बकरी पालन के लिए प्रशिक्षण केंद्र (Goat rearing training center)

केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान, मथुरा

हमारे भारत देश में बकरियों पर अनुसंधान हेतु उत्तर प्रदेश के मथुरा में केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्था की स्थापना की गई है जो murgi farm kaise khole कि भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद का एक प्रमुख अनुसंधान संस्था है। यह कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग कृषि मंत्रालय भारत सरकार के अधीन एक स्वायत्त संस्था है। यह संस्था किसान भाइयों बेरोजगारों युवाओं और छोटे उद्यमियों के लिए लाभ हेतु राष्ट्रीय स्तर पर बकरी पालन प्रशिक्षण आयोजित करता है। यदि आप इस विषय पर अधिक जानकारी प्राप्त करने के इच्छुक हैं तो आप 0565- 2763320 पर संपर्क कर एवं संस्था के अधिकारी वेबसाइट www.cirg.res.in पर जाकर विजिट कर सकते हैं।

बकरी पालन से लाभ (benefits of goat farming)
  • बकरी पालन सभी मौसम एवं कहीं पर भी की जा सकता है।
  • आज के समय में मुर्गियों में लगने वाली बीमारियों के वजह से बकरे के मांस की ज्यादा अधिक डिमांड चल रही है।
  • बकरी का मांस दूध एवं अन्य उत्पाद मानव आहार के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण पोषक तत्व प्रदान करते हैं।
  • बकरी का दूध डेंगू जैसी खतरनाक बीमारियों एवं को दूर करने में अधिक मांगा जाता है।
  • बकरी पालन में आप अन्य जानवरों की तुलना में कम भोजन की पूर्ति कर व्यवस्थाएं को शुरू कर सकते हैं।
  • भैंस गाय एवं अन्य पशुपालन की तुलना में बकरी पालन हेतु कम जगह की जरूरत होती है। जिसकी वजह से अगर आपके पास जगह कम है। तो आप उसमें भी अच्छे से अधिक बकरियों का पालन कर सकते हैं।

बकरी पालन कैसे करें (bakri palan ka tarika)

अब हमारे बहुत से पाठक सोच रहे होंगे murgi farm kaise khole कि यदि हम बकरी पालन शुरू करें। तो कैसे करें या बकरी पालन कैसे कर सकते हैं। तो सबसे पहले आपको बकरी पालन की मूल बातों की जानकारी होना जरूरी है। जिससे की बकरी पालन में ज्यादा मुनाफा हो सकेगा। इससे बड़े स्तर पर बकरी पालन की योजना को शुरू करने में आपकी मदद मिलेगी। बकरी पालन में शुरू से एक रणनीति से ही काम करना पड़ता है। इससे आपको इस बिजनेस में नुकसान कम ही होता है।

नस्ल का चयन

सर्वप्रथम आपको पशुपालक का चयन करते कहना जरूरी है,कि आप किस प्रकार की प्रजाति के पक्षियों का पालन करना चाहते हैं। नस्ल के चयन में पशुपालक पहले देसी बकरियां का चयन करते हैं। कुछ प्रशिक्षण के पश्चात बजट एवं जलवायु के अनुसार अच्छी नस्ल का चुनाव कर सकते हैं।

शेड का निर्माण

बकरी पालन हेतु भूमि एवं शेर का चुनाव बहुत ही ज्यादा जरूरी है की क्योंकि बकरियों को ऊंचे और सब जगह पर रहना पसंद होता है। इस कारण आप को ऊंची भूमि एवं सेट करना होगा। बकरी पालन हेतु अधिक जगह की कोई जरूरत नहीं होती है। आपको शेड का निर्माण वैज्ञानिक रूप से डिजाइन करना होगा।

बकरियों की भोजन और देखभाल

इसके साथ ही आपको भोजन की विशेष देखभाल रखनी जरूरी है एक स्वस्थ भोजन आपकी बकरी को भी स्वस्थ बनाएगा। जिसको बाजार में अच्छे दामों पर खरीदा जा सकेगा। आप घर पर ही बकरियों के लिए चारे का उत्पादन कर सकते हैं। तो काफी अच्छी बात है।

बकरियों की मार्केटिंग और बाजार

जैसे कि आप सभी को मालूम भी होगा, कि आज के समय में बकरे के मांस की बहुत ज्यादा डिमांड है। इस व्यवसाय हेतु मार्केटिंग की कोई भी ज्यादा आवश्यकता नहीं होती है। एक बार ग्राहक को अपने फॉर्म हाउस के बारे में पता चलने खुद इन बकरियों को खरीद ने के लिए है। तो आपके पास आएंगे इसके साथ ही आप अन्य बकरी पालक को बकरी के बच्चों को उनके लिए भी भेज सकते हैं।  जिससे आपको ज्यादा मुनाफा भी होगा।