राजीव गांधी किसान न्याय योजना (CG Nyay Scheme) क्या है | Rajeev Gandhi Kisan Nyay Yojana in Hindi

राजीव गांधी किसान न्याय योजना (CG Nyay Scheme) से सम्बंधित जानकारी

केंद्र सरकार के साथ-साथ राज्य सरकारें भी किसानों की आय बढ़ानें के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाओं का संचालन कर रही है | इसी क्रम में छतीसगढ़ सरकार नें किसानों कि आय बढानें के साथ ही उनके जीवन में बदलाव लाने के उद्देश्य से राजीव गांधी किसान न्याय योजना की शुरुआत की है | इस योजना के माध्यम से धान, मक्का, सोयाबीन, मूंगफली, तिल, अरहर, मूंग, उड़द, रामतिल, कोदो, कुटकी तथा रबी में गन्ना के तहत किसानों को सीधे सहायता राशि दी जाती है |

छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा इस योजना को शुरू करनें का मुख्य उद्देश्य किसानों को उनकी उपज का सही दाम दिलानें के साथ ही उन्हें आर्थिक रूप से सहायता प्रदान करना है| राज्य सरकार के अनुसार इस स्कीम के माध्यम से 19 लाख किसानों को 5,700 करोड़ रुपये की राशि 4 किश्तों में सीधे उनके बैंक अकाउंट में ट्रांसफर किए जाएंगे| राजीव गांधी किसान न्याय योजना (CG Nyay Scheme) क्या है, योजना से लाभ, उद्देश्य और रजिस्ट्रेशन के बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से जानकारी दे रहे है|

एक देश एक चुनाव क्या है

राजीव गांधी किसान न्याय योजना क्या है (What Is Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana)

छत्तीसगढ़ राज्य में लगभग 70 प्रतिशत आबादी कृषि कार्य करते है, और उनका जीवन यापन कृषि पर ही निर्भर है। छत्तीसगढ़ का अधिकांश भाग वर्षा आधारित होने के कारण किसानों की आय में अनिश्चितता बनी रहती है| जिसके फलस्वरूप किसान फसल उत्पादन के लिए उन्नत बीज, अच्छी उर्वरक और नये यंत्रों में निवेश करनें में असमर्थ हो जाते है| किसानों की इस समस्या को देखते हुए छत्तीसगढ़ सरकार नें ‘राजीव गांधी किसान न्याय योजना’ शुरू की है।  

‘राजीव गांधी किसान न्याय योजना’ की शुरुआत छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल नें रायपुर में भारत के पूर्व प्रधानमंत्री ‘राजीव गांधी’ की पुण्यतिथि पर 22 मई 2020 को वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से लांच किया| सरकार द्वारा इस योजना को शुरू करनें का मुख्य उद्देश्य राज्य में फसल उत्पादन को बढ़ावा देने के साथ ही उनकी उपज का सही दाम दिलाना है| इस योजना के माध्यम से राज्य के लगभग 19 लाख किसान लाभान्वित होगे, जिसमें  9 लाख, 53 हजार 706 सीमांत किसान, 5 लाख 60 हजार 285 छोटे किसान और 3 लाख 20 हजार 844 बड़े किसान शामिल हैं|

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत सरकार नें खरीफ 2020 सत्र से धान की फसल के साथ-साथ मक्का, सोयाबीन, मूंगफली, तिल, अरहर, मूंग, उड़द, कुल्थी, रामतिल, कोदो, कोटकी और गन्ना को भी इस योजना में शामिल किया है| इस योजना के अंतर्गत  खरीफ 2019 से धान तथा मक्का लगाने वाले किसानों को अधिकतम 10 हजार रुपये प्रति एकड़ की दर से सहायता राशि दी जाएगी|

स्वनिधि योजना (SVANidhi Yojana) क्या है

राजीव गांधी किसान न्याय योजना का उद्देश्य (Purpose of Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana) 

  • फसल उत्पादन बढ़ानें के साथ ही उनकी उपज का सही दाम दिलाना|
  • फसल के काश्त लागत की क्षतिपूर्ति कर किसानों के शुद्ध आय में वृद्धि करना।
  • किसानों को कृषि क्षेत्र में अधिक निवेश करनें हेतु प्रोत्साहन देना।
  • कृषि को लाभ के व्यवसाय के रूप में पुर्नस्थापित करनें हेतु जीडीपी में कृषि क्षेत्र की सहभागिता में वृद्धि करना।

योजना हेतु आवश्यक दस्तावेज (Documents Required For Scheme)

  • आवेदक छत्तीसगढ़ का स्थायी निवासी होना आवश्यक है।
  • आवेदक का आधार कार्ड (Adhaar Card)
  • आवेदक का निवास प्रमाण पत्र (Domicile Certificate)
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • घोषणा पत्र
  • आवेदक का बैंक आकउंट होना आवश्यक है, इसके साथ ही बैंक अकाउंट आधार कार्ड से लिंक होना चाहिए।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना हेतु पात्रता एवं नियम (Eligibility & Rules for CG Nyay Scheme)

  • अनुदान प्राप्त करनें वाले किसान नें यदि पिछले वर्ष धान की फसल का उत्पादन किया था और गत वर्ष धान के स्थान पर योजना के अंतर्गत शामिल अन्य फसल का उत्पादन करनें किसान को अतिरिक्त सहायता राशि अनुदान के रूप में दी जाएगी|
  • किसानों द्वारा उपभोक्ता फसलों के बोए गए रकबा के आधार पर लाभ प्राप्त करने हेतु घोषणा पत्र के साथ विभागीय पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा।
  • योजना के अंतर्गत निर्दिष्ट फसल लगाने वाले संस्थागत भू-स्वामी किसान इस योजना के  पात्र नहीं माने जायेंगे।
  • कृषक द्वारा वास्तविक बोए गए रकबा के आधार पर निर्धारित राशि प्रति एकड़ की दर से आनुपातिक रूप से उनके बैंक खातें में प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण डीबीटी के माध्यम से सहायता राशि अंतरित किया जाएगा।
  • फसल का अवशेष जलाने वाले किसान योजना के अंतर्गत संबंधित मौसम में लाभ प्राप्त करने के लिए अपात्र मानें जायेंगे।
  • यदि कोई कृषक घोषणा पत्र में गलत जानकारी देता है, तो उसके विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही अथवा प्रदत्त अनुदान राशि की वसूली भू-राजस्व संहिता के प्रचलित प्रावधान अनुसार की जाएगी।
  • किसान को दिए जानें वाली सहायता राशि का निर्धारण मंत्री-मंडलीय समिति द्वारा प्रति वर्ष प्रत्येक फसल के लिए किया जाएगा।

योजना के अंतर्गत हस्तांतरित धनराशि का विवरण (Details of Funds Transferred)

  • योजना के अंतर्गत पहली किस्त का भुगतान 21 मई 2020 को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर किया गया, जिसके तहत 18.34 लाख से अधिक धान किसानों को 1500 करोड़ की पहली किस्त उनके खाते में हस्तांतरित की गई।
  • योजना की दूसरी किस्त का भुगतान पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के जन्मदिन 20 अगस्त 2020 को किया गया, जिसमें किसानों को 1500 करोड़ की सहायता राशि उनके खाते में हस्तांतरित की गई।
  • योजना के तहत तीसरी किस्त का भुगतान छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस 1 नवंबर को किया गया, जिसमें 1500 करोड़ रुपए की सहायता राशि किसानो को प्रदान की गई।
  • योजना कि चौथी किस्त का हस्तांतरण 21 मई 2020 को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर किया जायेगा|

राजीव गांधी किसान न्याय योजना आवेदन प्रक्रिया (Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana Application Process)

छत्तीसगढ़ राज्य सरकार राजीव गांधी किसान न्याय योजना हेतु ऑनलाइन आवेदन के लिए एक ऑनलाइन पोर्टल लॉन्च करनें की घोषणा की गयी है, जिसकी जानकारी अभी सार्वजानिक नहीं की गयी है| योजना का लाभ प्राप्त करनें हेतु इच्छुक और पात्र किसान एक निर्धरित प्रारूप में ऑफलाइन माध्यम से आवेदन कर सकते है| इस योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू होनें पर हम तुरंत अपडेट करेंगे।

योजना के अंतर्गत शामिल फसल लगाने वाले सभी श्रेणी के किसानों को आवेदन पत्र में  जानकारी, आवश्यक अभिलेख एवं घोषणा पत्र के साथ निर्धारित समय-सीमा में पंजीकरण कराना होगा। आवेदन में उल्लेखित भूमि एवं फसल रकबे का कृषि / राजस्व विभाग के मैदानी अमलों से सत्यापन कराने के उपरांत सहकारी समिति में पंजीयन कराना होगा। योजना का लाभ मिलेगा सिर्फ उन्हीं किसानों को मिलेगा, जो योजना के तहत अपना पंजीकरण निर्धारित समय सीमा में करवा लेते हैं।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना आवेदन फार्म का प्रारूप (Format of Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana Application Form)

कुसुम योजना (Kusum Yojana) क्या है