|LLM Full Form| एलएलएम क्या होता है, LLM कैसे करें योग्यता, फीस जाने

एक बेहतर जीवन के लिए सभी बच्चे उच्च शिक्षा प्राप्त करते है। काफी ऐसे क्षेत्र है। जिसमे आय के स्त्रोत अच्छे है जैसे एक क्षेत्र एलएलबी है। कानूनी क्षेत्र में एलएलबी के बाद एक और डिग्री होती है जिसे LLM कहते हैं। परन्तु इसके बारे में छात्र बहुत कम ही जानते है। तो यदि आप भी LLM Kya Hai  के बारे में जानना चाहते है। तो यह लेख आपके लिए काफी महत्वपूर्ण है। इस लेख के माध्यम से हम आपको एलएलएम क्या है LLM full Form, LLM कोर्स के 4 सेमेस्टर, पात्रता मानदंड, एलएलएम करने के बाद कैरियर स्कोप आदि से जुड़ी जानकारी देने वाले है। हमारा निवेदन है की  आप लेख को अंत तक पढ़े।

Sarkari Vakil Kaise Bane

LLM Full Form (एलएलएम का फुलफॉर्म)

LLM का फुलफॉर्म LEGUM MAGISTER (LATIN) & MASTER OF LAW होता है।

LLM Kya Hota Hai

अगर आप कानूनी क्षेत्र में रुचि रखते हैं। तो आपने एलएलएम कोर्स के बारे में जरूर सुना होगा। इसकी संपूर्ण जानकारी हम आपको इस लेख में दे रहे हैं। तो LLM की फुलफॉर्म LEGUM MAGISTER (LATIN) & MASTER OF LAW होती है। यह एक इंटरनेशनल मान्यता प्राप्त पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री होती है। इस कोर्स को करने का समय 2 साल का है और अगर आप बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी से करते हैं तो इस डिग्री को करने में आपके 4 साल लगेंगे। इसके साथ ही इस कोर्स में छात्रों को रूल्स और रेगुलेशन से संबंधित शिक्षा के बारे में पढ़ाया जाता है।

क्योंकि जाहिर है कि यह कानूनी क्षेत्र का कोर्स है। तो इस कोर्स में छात्र को रूल्स और रेगुलेशन के बारे में ही बताया जाएगा। इस कोर्स में 4 सेमेस्टर होते हैं और एलएलएम में पढ़ाई बहुत ज्यादा प्रैक्टिकल तरीके से कराई जाती है। जैसे की हम देख रहें है की देश में दिन-ब-दिन अपराध बढ़ रहे हैं। जिस लिए अपराधियों को सजा देने के लिए एक अच्छा वकील होना बहुत ज्यादा जरूरी है। तो इस कोर्स में छात्रों को प्रैक्टिकल तरीके से पढ़ाई कराइ जाती है। ताकि आगे चलकर वह आम जनता को न्याय दिया जा सकें।

एलएलएम कोर्स के 4 सेमेस्टर

सभी छात्रों को हमने बताया है की चार सेमेस्टर में कौन कौन से विषय होंगे। विषय की जानकारी इस प्रकार है:-

1- सेमेस्टर

  • Constitutional Law- I
  • Legal Theory – I
  • Research Methodology

2- सेमेस्टर

  • Constitutional Law- II
  • Legal Theory – II
  • Law and Social Change

3- सेमेस्टर

  • Law Relating to Labour Welfare
  • Law Relating to Industrial Relation

4- सेमेस्टर

  • Law Relating to Service Regulation
  • Law Relating to Industrial Injuries and Social Securities

Advocate Kaise Bane

एलएलएम के लिए सब्जेक्ट का चुनाव कैसे करे?

अब छात्रों के लिए सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न यह बन जाता है, की वह आपको बताना चाहेंगे वैसे तो आप अगर चाहे तो इस कोर्स में बहुत सारे विषय को पढ़ सकते हैं। आप अपने हिसाब से ब्रांच को सिलेक्ट करके अपने सब्जेक्ट का चुनाव कर सकते हैं। वैसे आपके चयन के लिए हमने भी आपको नीचे कुछ विषयों के बारे में बताया है। जोकि इस प्रकार है:-

मास्टर ऑफ़ लौ कोर्स ब्रांच

  • फॅमिली लॉ। 
  • टैक्सेशन लॉ। 
  • कोंस्टीटूशनल लॉ। 
  • इंटरनेशनल ट्रेड लॉ। 
  • इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी लॉ।

LLM Course Kaise Karen

बारहवीं कक्षा पास करें

आप कोई भी डिग्री तभी ले सकते हैं जब आप 12वी में अच्छे नंबर से पास हुए हों। LLM के लिए आपने 12वी कक्षा में 50% अंक तो प्राप्त किए हों। 

ग्रेडुएशन कंप्लीट करें

अब बारवी करने के बाद आपको किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से 3 साल की ग्रेजुएशन कंप्लीट करनी होगी। 

एलएलबी करे

यदि आप चाहे तो ग्रेजुएशन के बाद 3 साल की एलएलबी कर सकते हैं या फिर डायरेक्ट 12वीं के बाद 5 वर्ष की एलएलबी कर सकते हैं। LLM‌ डिग्री हासिल करने के लिए एलएलबी कंप्लीट होनी जरूरी है। यानी कि एलएलबी करने के बाद ही आप LLM में एडमिशन ले सकते हैं।

एलएलएम के लिए एडमिशन ले

अब आपको एलएलबी डिग्री कंप्लीट करने के बाद एलएलएम के लिए एडमिशन लेना होगा। आप किसी प्राइवेट कॉलेज में या सरकारी कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं। यदि आप किसी सरकारी कॉलेज से एलएलबी की डिग्री लेना चाहते हैं तो उसके लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम देना होगा।

एलएलएम की फीस

अब आप LLM Course करेंगे। जहाँ से भी कोर्स करना चाहते है। वहां से ही आप अपने कोर्स की फीस से सम्बंधित जानकारी आदि प्राप्त कर सकते है। कॉलेज और इंस्टिट्यूट में नियम अनुसार अलग-अलग फीस निर्धारित की जाती है। एक अनुमान के तौर पर एलएलएम कोर्स करने के लिए आपको कम से कम 6000 रुपए से लेकर 1.50 हज़ार रुपए तक की फीस देनी होती है। वैसे हर जगह का अलग अलग शुल्क होता है।

Judge Kaise Bane?

LLM के लिए पात्रता मानदंड क्या है

यदि आप LLM कोर्स करना चाहते है। तो आपको सबसे पहले पात्रता की जांच करनी चाहिए। जोकि इस प्रकार है:-

  • सबसे पहले तो आप 12वी पास होने चाहिए। जिसमे अपने 50% अंक प्राप्त किए हों। 
  • इसके बाद आपको ग्रेजुएशन कंप्लीट करनी होगी।
  • यदि आप LLM डिग्री लेना चाहते है  तो उसके लिए सबसे पहले आपके पास एलएलबी मतलब बैचलर ऑफ लो का सर्टिफिकेट होना चाहिए।
  • इसके साथ ही आपने एलएलबी की डिग्री में आप के कम से कम 50% का अंक होने चाहिए।

एलएलएम करने के बाद कैरियर स्कोप

अपने भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए आपको उस क्षेत्र का चयन करना चाहिए। जिसमे आपकी रूचि हो और ज़रूरी है की वर्तमान में उसका स्कोप भी हो। आज देखे तो अपराध की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है। तो आने वाले समय में आपके लिए एलएलएम कोर्स आपके लिए आगे चलकर अच्छा रोज़गार बन सकता है। इसके साथ ही केंद्र ओर राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर वकीलों के लिए नौकरियां निकलती रहती हैं। विभिन्न न्यायालयों के न्यायाधीशों के रूप में, अटॉर्नी और सॉलिसिटर जनरल के रूप में, लोक अभियोजक के रूप में और रक्षा, कर और श्रम डिपार्टमेंट में भी सिलेक्ट किया जा सकता है।

इतना ही नहीं बल्कि आप SOLICITOR, ADVOCATE, PROFESSOR, LEGAL ADVISOR,  JUDGE, NOTARY PUBLIC की नौकरी भी आसानी से कर सकते है। यदि आप LLM का चयन कर रहें है। तो आगे चलकर भी आपको काफी सारी उपलब्धियाँ मिलेगी। नीचे हमने LLM कर्मचारी के लिए काफी सारे विकल्प दिए है। जोकि इस प्रकार है:-

  • बैंक्स (Banks )
  • जुडिशरी (Judiciary)
  • नेव्स्पपेर्स (Newspapers)
  • न्यूज़ चैनल्स (News Channels)
  • प्राइवेट प्रैक्टिस (Private Practice)
  • बिज़नेस हाउसेस (Business Houses)
  • लीगल कॉन्स्टांइस (Legal Constancies )
  • एजुकेशनल इंस्टीटूट्स (Educational Institutes)
  • सेल्स टैक्स एंड एक्साइज डिपार्टमेंट्स (Sales Tax and Excise Departments)

आज के इस लेख के मध्य से हमने आपको LLM Kya Hota Hai से जुड़ी जानकारी देने वाले है। यदि आपका इस विषय से जुड़ा कोई प्रश्न है। तो आप कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है।

Scrutiny (स्क्रूटनी) का मतलब क्या है