विवाह प्रमाण पत्र (Marriage Certificate) क्या है | How To Apply Marriage Certificate | आवश्यक डाक्यूमेंट्स

विवाह प्रमाण पत्र (Marriage Certificate) से सम्बंधित जानकारी

भारत देश में सरकार के द्वारा प्रत्येक नागरिक के लिए विवाह प्रमाणपत्र(Marriage Certificate) बनवाना अनिवार्य कर दिया गया है| सभी जाति, धर्म, सम्प्रदाय तथा वर्ग के नागरिको के लिए विवाह पंजीकृत करवाना आवश्यक है| जिस प्रकार जन्म तथा मृत्यु प्रमाणपत्र आवश्यक है, उसी प्रकार विवाह प्रमाणपत्र (Marriage Certificate) भी आवश्यक होता है| विवाह प्रमाणपत्र (Marriage Certificate) एक दम्पति के लिए बहुत ही आवश्यक दस्तावेज होता है, जिसमे क़ानूनी रूप से सत्यापित किया जाता है, की दोनों लोग शादीशुदा है| विवाह प्रमाणपत्र (Marriage Certificate) एक पुष्टि का दस्तावेज होता है|

इसके पूर्व यह प्रमाणपत्र बनवाने की प्रक्रिया काफी जटिल होती थी, लोगो को निबंधन कार्यालय में विवाह पंजीकरण फॉर्म प्राप्त करने तथा पंजीकृत करवाने के लिए लम्बी कतारों में लगना पड़ता था, लेकिन अब आप घर बैठे ही ऑनलाइन प्रक्रिया के द्वारा विवाह प्रमाणपत्र बनवा सकते है | यहाँ पर  आपको “विवाह प्रमाण पत्र (Marriage Certificate) क्या है? ऑनलाइन आवेदन कैसे करे तथा आवश्यक डाक्यूमेंट्स ” से सम्बंधित जानकारी उपलब्ध कराई गयी है|

विवाह प्रमाण पत्र क्या है? (What is Marriage Certificate)

उच्चतम न्यायालय के द्वारा वर्ष 2006 में विवाह का पंजीकृत होना अनिवार्य कर दिया गया था, भारत में विशेष विवाह अधिनियम 1955 या हिन्दू विवाह अधिनियम 1954 के अंतर्गत विवाह पंजीकृत किया जाता है| विवाह प्रमाणपत्र यह सत्यापित करता है, कि यह युगम क़ानूनी रूप से शादीशुदा है| विवाह प्रमाणपत्र (Marriage Certificate) के द्वारा विवाह की पुष्टि की प्रमाणकता सिद्ध होती है| इस प्रमाण पत्र में वर तथा वधु का नाम, विवाह की तिथि तथा विवाह का स्थान आदि अंकित होने से यह प्रमाणित होता है की इस युगल का विवाह सम्पन्न हो चुका है| प्रत्येक धर्म, जाति, समुदाय तथा समाज के अलग-अलग रीति रिवाज के आधार पर विवाह संपन्न कराया जाता है, तथा इस विवाह को समाज के द्वारा मान्यता भी प्रदान की जाती है| लेकिन लिखित दस्तावेज का प्रमाण न होने की दशा में विवाह पंजीकरण प्रमाणपत्र होना आवश्यक होता है| विवाह प्रमाणपत्र (Marriage Certificate) न होने पर कई प्रकार की समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है। इसलिए अब विवाह प्रमाणपत्र(Marriage Certificate) को सरकार के द्वारा अनिवार्य कर दिया गया है।

विवाह प्रमाणपत्र के लिए आवश्यक दस्तावेज (Important Document for Marriage Certificate)

पति एवं पत्नी का आयु प्रमाण

पति एवं पत्नी का निवास प्रमाण

पति एवं पत्नी का विवाह का प्रमाण

  • एक शादी का फोटो (Marriage Photograph)
  • एक शादी का कार्ड (Marriage Card)
  • सपथ पत्र (Affidavit)

ऑनलाइन विवाह प्रमाणपत्र के लिए पात्रता (Eligibility for OnlineMarriage Certificate)

  • जिस क्षेत्र से  विवाह को पंजीकृत करना चाहते हैं, या विवाह हो रहा है, या विवाह करने जा रहे है उस क्षेत्र में कम से कम 30 दिनों के लिए युगल को रहना आवश्यक है|
  • आवेदन के समय लड़की की आयु 18 वर्ष तथा लड़के की आयु 21 वर्ष से कम नहीं होनी चाहिए।
  • यदि पति या पत्नी हिंदू विवाह अधिनियम के अंतर्गत पंजीकरण कर रहे है, तो पति या पत्नी के पास विवाह के समय एक से अधिक पति या पत्नी नहीं रह सकते हैं।
  • यदि आप विशेष विवाह अधिनियम के अंतर्गत पंजीकरण करा रहे हैं, तो एक या एक से अधिक पत्नियों की उपस्थिति की भी अनुमति है।

विवाह प्रमाण पत्र पंजीकरण शुल्क (Marriage Certificate Registration Fees)

  • हिंदू विवाह अधिनियम के तहत विवाह पंजीकरण शुल्क 100 रुपये देना होता है।
  • विशेष विवाह अधिनियम के अंतर्गत विवाह पंजीकरण शुल्क 150 रुपये देना पड़ता है।
  • तत्काल सेवा के अंतर्गत पति-पत्नी एक दिन के अंदर विवाह पंजीकरण प्रमाणपत्र प्राप्त करने का शुल्क 1000 रुपये देकर विवाह प्रमाणपत्र प्राप्त कर सकते है|

विवाह प्रमाणपत्र के लाभ (Benefits of Marriage Certificate)

  • प्रमाणपत्र के द्वारा सरकार की योजनाओं का लाभ लिया जा सकता है|
  • बहुत से देशों में विवाह की मान्यता के लिए विवाह प्रमाणपत्र की आवश्यकता होती है|
  • बैंक में पति तथा पत्नी के ज्वाइंट अकाउंट खुलवाने के लिए भी इस प्रमाणपत्र  की आवश्यकता पड़ती है।
  • पासपोर्ट बनवाते समय इस प्रमाणपत्र की आवश्यकता होती है।
  • विवाह प्रमाणपत्र पति तथा पत्नी की आयु को प्रमाणित करता है। जिससे  बाल विवाह को प्रतिबंधित किया जा सकता है।
  • विवाह प्रमाणपत्र विवाह में होने वाली धोखाधड़ी से बचाता है।
  • यह प्रमाणपत्र विरासत के अधिकार का लाभ प्रदान करने में भी सहायता करता है।

विवाह प्रमाणपत्र पंजीकरण की प्रक्रिया (Marriage Certificate Registration Process)

विवाह प्रमाणपत्र पंजीकरण के लिए ऑफलाइन तथा ऑनलाइन दोनों प्रकार से आवेदन कर सकते है, वह इस प्रकार है

विवाह पंजीकरण के लिए ऑफलाइन आवेदन (Marriage Certificate Registration For Offline Application)

  • विवाह प्रमाणपत्र के ऑफलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया ऑनलाइन की तुलना में अधिक जटिल तथा पेचीदा  है|
  • सर्वप्रथम आपको निबंधन कार्यालय या संबंधित रजिस्ट्रार कार्यालय द्वारा विवाह पंजीकरण का फॉर्म प्राप्त करना होगा|
  • यदि आप कोर्ट से विवाह करते है, तो कोर्ट द्वारा स्वयं ही आपको पंजीकरण फॉर्म प्रदान किया जाएगा।
  • विवाह के फॉर्म को भरकर शादी से संबंधित दस्तावेज तथा अन्य आवश्यक दस्तावेजों को फॉर्म के साथ संलग्न कर दे|
  • यह फॉर्म आपको निबंधन कार्यालय या संबंधित रजिस्ट्रार कार्यालय जमा करना होगा|
  • इसके बाद कार्यालय के द्वारा शादी के दस्तावेजों का सत्यापन किया जायेगा|
  • सभी दस्तावेज सत्यापित होने के बाद आवेदक को विवाह प्रमाणपत्र (Marriage Certificate ) प्रदान किया जाता है|
  • आवेदक स्वयं कार्यालय में जाकर विवाह प्रमाण पत्र (Marriage Certificate) प्राप्त कर सकता है, अन्यथा 30 दिनों के अंदर  विवाह प्रमाणपत्र (Marriage Certificate) आवेदक के घर भेज दिया जाता है |

विवाह पंजीकरण के लिए ऑनलाइन आवेदन (Marriage Certificate Registration For Online Application)

  • ऑनलाइन आवेदन के लिए  राज्य के निबंधन विभाग या ई-सेवा पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर या igrsup.gov.in इस लिंक पर क्लिक करना होगा |
  • अब  वेबसाइट का होमपेज खुल जाएगा। जिसमें आपको “विवाह पंजीकरण” के अंदर “आवेदन करें” पर क्लिक करना होगा|
  • अब अगले पेज में आपसे आधार आधारित पंजीकरण के लिए पूछेगा। यदि पति-पत्नी दोनों का आधार मोबाइल नंबर से लिंक हैं तो “हां” अन्यथा “नहीं” पर टिक करना हैं।
  • अगर आप “हां” करते हैं तो आपको संबंधित कार्यालय जाने की आवश्यकता  नहीं पड़ेगी। तथा अगर आप “नहीं” करते हैं, तो आपको संबंधित कार्यालय जाना पड़ेगा।
  • उसके बाद “आवेदन विवाह पंजीकरण” पर क्लिक करने पर आपके सामने विवाह पंजीकरण हेतु आवेदन पत्र  खुल जाएगा।
  • अब इस फॉर्म में आपको पहले  पति से सम्बंधित पूरी जानकारी भरनी होगी|
  • इसके बाद आपको “सुरक्षित करें” बटन पर क्लिक करना होगा|
  • पति की जानकारी भरने के बाद “सुरक्षित करें” बटन पर क्लिक करने पर नया  पेज खुलकर आएगा|  जिसमें आपको “पत्नी का विवरण” भरना हैं।
  • पत्नी से सम्बंधित पूरी जानकारी निर्देशों के आधार पर दस्तावेजों के अनुसार भरकर “सुरक्षित करें” बटन पर क्लिक करे|
  • अब अगले पेज में आपको “विवाह स्थल  या  पंजीकरण कार्यालय का चयन” करना होगा|
  • “सुरक्षित करें” पर क्लिक करते ही आपको आवेदन संख्या (Registration Number) और पासवर्डप्राप्त हो जायेगा|
  • रजिस्ट्रेशन  नंबर और पासवर्ड  को कहीं सुरक्षित रख ले क्यूंकि इसी की मदद से आप अपने आवेदन   के स्टेटस को ट्रैक कर सकते हैं|
  • अब इसके बाद पति और पत्नी दोनों के सभी दस्तावेज अपलोड करना होगा।
  • आवेदन को सम्बंधित अधिकारी के पास आगे की प्रक्रिया के लिए भेज दिया जायेगा|
  • विवाह प्रमाण पत्र बन जाने पर आपके द्वारा दिए गए मोबाइल नंबर पर एसएमएस (SMS)के द्वारा सूचित कर दिया जाएगा।
  • जिसके बाद आप निबंधन विभाग की अधिकारिक वेबसाइट से विवाह प्रमाणपत्र (Marriage Certificate) को डाउनलोड कर सकते हैं ।